पुस्तक समीक्षा #2 : सिंह मर्डर केस – रमाकांत मिश्र

 

singh

Reviewed By : – SABA KHAN

कोई भी काम खासतौर पर लेखन कर्म जब अपनी पूरी तैयारी और ईमानदार कोशिशों से परवान चढ़ता है तो उसका मकसद भी पूरी शिद्दत से कामयाब होता है I लिखना एक जटिल प्रक्रिया है और इस लिखने के दौरान एक गंभीर लेखक को न केवल अपने पात्रों की मनःस्थिति से जूझना पड़ता है बल्कि निरंतर खुद के भीतर उमड़ घुमड़ रहे अनगिनत विचारों की क्रमवार श्रृंखलाओं से भी दो चार होना पड़ता है I और इस होती निरंतर उथल पुथल का प्रभाव रचना पर पड़ना स्वाभाविक है I रहस्य, जासूसी तथा अपराध कथा लेखन ने समय के साथ साथ खुद के लेखन में नयी नयी शैलियाँ, नए नए Narrative Style भी विकसित किये हैं I और इस लेखन में भी न केवल भाषा बल्कि अन्य कई रचनात्मक स्तरों पर भी गंभीर प्रयास किये गए हैं I और लगातार हुवे इन प्रयोगों, कथन शैली तथा प्रस्तुतीकरण ने पाठकवर्ग को और भी ज्यादा सजग बना दिया है I जिसके चलते इस तरह के लेखन में कोई भी लेखक बड़े बड़े दावे करने के वाबजूद खुद को इस विधा के लेखक के रूप में इतनी आसानी से नहीं स्थापित कर सकता और अगर उसका लेखन सिर्फ सतही जानकारियों पर ही आधारित हो और औने पौने से ही काम चला लेने की मनःस्थिति से युक्त हो तो ये काम और भी ज्यादा मुश्किल है I एक अच्छी अपराध तथा रहस्य कथा की कामयाबी की बुनियाद इन्ही कुछ तथ्यों के इर्द गिर्द ही रहती है और एक काल्पनिक रचना होने का तमगा लिए हुवे भी वास्तविकता के पहलूवों से उसकी निकटता पाठकवर्ग से खुद को जोड़ने में उतनी ही कामयाब रहती है I

इस विधा का अंग्रेजी भाषा में लेखन का परिदृश्य न केवल आरंभिक समय से बल्कि वर्तमान में भी हर स्तर पर नितांत समृद्ध भी है और समर्थ भी I भारतीय सन्दर्भ में भी कमोबेश यही स्थिति है –जहाँ एक ओर इस विधा के लेखन में अंग्रेजी भाषा में लगभग हर दुसरे या तीसरे महीने में एक नया लेखक उभर रहा है और पाठकों के बीच अपनी जगह बना रहा है, तो दूसरी ओर हिंदी भाषा में एक दो बड़े लेखकों को छोड़कर ( वो भी जो कई दशकों से इस विधा के लेखन में रत हैं ) कोई नया चेहरा उभर कर नहीं आ रहा है I और ये स्थिति तब है जबकि अंग्रेजी भाषा में भारतीय लेखकों की इस विधा में लेखन की भागीदारी पिछले कई वर्षों के मुकाबले हाल ही में तीव्र गति से बढ़ी है I ऐसी स्थिति में जब कोई नया लेखक अपराध और रहस्य कथा के तमगे के साथ अपने पहले उपन्यास को लेकर हिंदी भाषा में ऐसा कोई प्रयास करते हुवे पाठकों के बीच आता है तो उस पर ध्यान आकर्षित होना लाजिमी है I

चंद दिनों पहले सोशल प्लेटफॉर्म्स के जरिये एक नवोदित लेखक रमाकांत मिश्र लिखित “ सिंह मर्डर केस “ नाम के अंग्रेजी टाइटल वाले हिंदी भाषा में आने वाले उपन्यास के विज्ञापन पर नजर पड़ी तो मन में उत्सुकता का भाव पैदा हुआ और पढ़ने की इच्छा भी बलवती हुई I

उपन्यास हस्तगत होते ही मन में बहुत ही अच्छा भाव पैदा हुआ I टाइटल कवर बहुत आकर्षक बन पड़ा है और निश्चित तौर पर इस कवर आर्ट के लिए ‘ हनुमेंद्र मिश्र ‘ बधाई के पात्र हैं ( शायद लेखक से किसी पूर्व परिचय या सम्बन्ध के कारण की गयी अतिरिक्त मेहनत का नतीजा हो ) I प्रकाशक सूरज पॉकेट बुक्स ने इस उपन्यास की प्रूफरीडिंग, पेपर क्वालिटी, पैकेजिंग और मुद्रण में मेरे द्वारा पूर्व में समीक्षित उपन्यास “ एक हसीन क़त्ल “ के मुकाबले पूरी व्यावसायिकता का परिचय देते हुवे आश्चर्यजनक तौर पर सुधार किया है I कुछ स्थानों पर प्रूफ संबंधी त्रुटियाँ अवश्य हैं लेकिन उनके द्वारा इस दिशा में निरंतर किये जा रहे प्रयास निकट भविष्य में किसी भी समीक्षा में स्वयं को इस आधार पर आँका जाना नहीं पसंद करेंगे, ऐसी आशा है I अभी तक किताबों पर बार कोड भी नहीं आ रहा है, इसका कारण भी समझ में नहीं आया I बहरहाल बधाई के पात्र हैं इस पुस्तक के साथ ‘सूरज पॉकेट बुक्स’ I

कुल १७६ पृष्ठों की इस किताब में कहानी का फैलाव १६६ पृष्ठों में है जो १६ अध्यायों में बंटी हुई है I  मूल्य १९९ रुपये जो की इस किताब की गुणवत्ता, इसके स्टैण्डर्ड साइज़ और औसतन ३० पंक्तियाँ प्रति पृष्ठ के मद्देनज़र बिलकुल वाजिब है I

प्रथम पृष्ठ पर आल्हा की पंक्तियाँ “ जाके बैरी सन्मुख जीवे I ताके जीवन को धिक्कार I I “ काफी कुछ इस उपन्यास के कथ्य का आभास दे जाती हैं I पुस्तक की भूमिका श्री जीतेन्द्र माथुर द्वारा देखकर अच्छी अनुभूति होती है वो न केवल एक सफल समीक्षक हैं बल्कि एक विद्वान् एवं सफल लेखक भी हैं और भूमिका में भी उन्होंने अपनी विद्वता और गुणग्राह्यता का परिचय दिया है I

कहानी की शुरुवात होती है एक नृशंशतापूर्ण क़त्ल से ( एक रहस्य कथा का आगाज़ इस से बेहतर क्या हो सकता है ! ) I लखनऊ में डी० एस० पी० प्रशांत सिंह के युवा पुत्र समर्थ सिंह के विवाह का अवसर है, हर्षोल्लास का वातावरण है I समर्थ सिंह अपने दोस्तों को विदा करने बाहर आता है और विदा करके ठिठक कर पोर्टिको में खड़ी मंगनी में प्राप्त पज़ेरो को देखने लगता है तभी अचानक पजेरो स्टार्ट होती है और उस पर चढ़ जाती है I इस से पहले लोग कुछ समझ पाते पजेरो तीन बार समर्थ सिंह को कुचलती है और ठहर जाती है I लोग अन्दर से जब तक बाहर पहुचते हैं तब तक हत्यारा फरार हो चुका होता है I

चूंकि मामला पुलिस मशीनरी के आला उच्चाधिकारी के बेटे के क़त्ल का था लिहाज़ा ऊंचे स्तर पर जांच पड़ताल होती है और नतीजा न निकलने पर केस सी० बी० आई० के होनहार चतुर अधिकारी मदन मिश्र के हवाले कर दिया जाता है I

उपरोक्त स्टोरीलाइन के इर्द गिर्द ही पूरा कथानक रचा गया है जिसे पढ़ते हुवे पाठक खुद को उन पात्रों और घटनाओं के मध्य उलझता और घटनाओं के प्रवाह में बहता चला जाता है I कथानक २०१४ से शुरू होता है और फिर पीछे जाता है I अंत में उस समय तक जाता है जहाँ इस कथानक की जड़ें हैं -१९९८ तक I फिर २०१५ में समाप्त हो जाता है I उपन्यास का संपूर्ण कथानक यू० पी के कई जिलों से लेकर मध्य प्रदेश, मुंबई, उत्तराखंड, दिल्ली, अहमदाबाद, तक फैला हुआ है I इस स्तर पर लेखक ने न केवल अपनी कुशल लेखन कला के बल्कि विषय तथा संपूर्ण भारतीय पुलिस तंत्र, उसका चरित्र, उसकी कार्यशैली, उसकी बारीकियों पर अपनी तीखी पकड़ का परिचय दिया है I इस तंत्र की हर बारीकी को लेखक ने भली भांति अपने अन्वेषण और अध्ययनोंपरांत अपने लेखन के मूलकथ्य का हिस्सा बनाया है जिसके कारण उपन्यास की न केवल रोचकता बढ़ी है बल्कि कथानक वास्तविकता के और भी निकट प्रतीत होता है I उपन्यास अपने अंतर में एक साहित्यिक स्पर्श का सुखद अनुभव सा प्रदान करता हुआ चलता है I कभी हिंदी साहित्य के जानेमाने  लेखक और रागदरबारी जैसी कालजयी रचना के लेखक श्रीलाल शुक्ल नें “ आदमी का ज़हर” नामक एक रहस्य कथा उपन्यास लिखा था I हालांकि उनका ये प्रयोग उस वक़्त बुरी तरह नकारा गया था लेकिन अपने लेखन और शैली में वो पूरी तरह सफल था I कुछ इसी तरह का एहसास ये उपन्यास पढ़ते हुवे होता है जिसका मुख्य कारण इसकी समृद्ध साहित्यिक हिंदी युक्त भाषा भी है I लेखक ने हिंदी के क्लिष्ट शब्दों के प्रयोग से दूरी रखी है फिर भी आम लेखकों के मुकाबले विशुद्ध हिंदी का प्रयोग किया है जिसमे सटीक शब्द चयन और जरूरत पड़ने पर प्रचलित कहावतों का प्रयोग उसे और समृद्ध बनाती है I

उपन्यास अपनी narrative form के चलते एक Hardboiled Mystery ना होकर मूल रूप से एक Softboiled Thriller ही बनकर रह गया है जिसमे रहस्य का पहलू Secondry है और भावनात्मक पहलू का चित्रण प्रभावी रूप से उभर कर आया है जिसे लेखक नें इस तरह से रचा है की पाठक पढ़ने के बाद कहीं से खुद को ठगा जाना महसूस नहीं करता है I बशर्ते इसे इस जिद के तहत न पढ़ा जाए की एक मर्डर मिस्ट्री ही पढ़कर उठना है I

लेखक ने कथा को कहने के लिए जिस Cut to Back तथा Cut to Forth और फ्लैशबैक तकनीक का प्रयोग किया है उसको साधकर कथा के प्रवाह में बगैर रुकावट आये और पाठक की एकाग्रता को भंग किये बगैर प्रयोग करना किसी भी नवोदित लेखक के लिए मुश्किल कार्य है, मगर रमाकांत मिश्र नें ये काम किसी हद तक सफलतापूर्वक किया है I ये बात दूसरी है की इस तकनीक के प्रयोग ने ही एक अच्छी और लाजवाब बन सकती ‘Police Procedural रहस्य कथा’ को एक बेहतरीन Thriller के दायरे तक ही सीमित कर दिया है I तकनीक ही है जिसकी वजह से पाठक को पढ़ते हुवे घटनाओं की तारतम्यता और timeline को लेकर अतिरिक्त सजगता की आवश्यकता पड़ती है और कहीं कहीं पीछे जाकर पन्ने पलटना पड़ सकता है और पढ़ते पढ़ते उलझना भी पड़ सकता है I

उपन्यास का सबसे कमज़ोर पहलू उसकी Timeline का बिलकुल सटीक ना होना है I लेखक नें क्यूँ इसके लिए सरलीकरण का सहारा लिया वो समझ से परे है I महीनो के नाम के स्थान पर ऋतुओं का प्रयोग कहीं से भी तर्कसंगत नहीं लगा I और इसी सरलीकरण के चलते एक घटना विसंगति सी होने का आभास देती है – अध्याय ८ में जिसकी timeline २०१३ शरद से –वर्ष २०१४ शरद तक यानी पूरे एक वर्ष की दी है और वहां पर जिस घटना का जिक्र है उसके अंतर्गत एक डायलाग “ मैं तो बस गुरुप्रताप के ही करंट लगा पाया “ है I ये करंट लगाने वाली घटना अध्याय 4, वर्ष २०१४ – बसंत- में घटित होती दर्शाई गयी है I अध्याय ८ की घटना से ये तुरंत स्पष्ट नहीं होता की उस वक़्त जो घटना घटित होती दिखाई जा रही है वो २०१३ में हो रही है अथवा २०१४ में ? हालांकि इस घटना के बाद पिछले साल घटित हुई घटनाओं का संक्षिप्त सार सा है मगर औसत बुद्धि पाठक के लिए ये स्पष्ट होना मुश्किल ही है I बसंत २०१४ की घटना ग्रेगोरियन कैलेंडर के हिसाब से मार्च से मई के दरमियान कभी भी घटित हुई हो सकती है और २०१३ शरद से २०१४ शरद की घटनाएँ सितम्बर से नवम्बर २०१३ से लेकर सितम्बर –नवम्बर २०१४ के मध्य कभी भी घटित हुई हो सकती हैं I तार्किक आधार पर बसंत २०१४ में हुई घटना इस समयसीमा के अंतर्गत आ गयी I मगर जिस तरह वहां पर दर्शाया गया है उसके आधार पर समझना मुश्किल हो जाता है एक बार में I बेहतर होता की ऋतुओं के स्थान पर हिंदी महीनो के नाम होते या अंग्रेजी में I ये इस उपन्यास का सबसे बड़ा कमजोर पक्ष है I

Flashback और Cut to Back and Forth तकनीक का प्रयोग करने के स्थान पर लेखक नें अगर १९९८ की घटना को आरम्भ में बतौर पूर्वकथा के तौर पर प्रयोग करते हुवे Linear Sequence में मदन मिश्र का उपयोग करते हुवे कहानी को आगे बढ़ाया होता तो एक लाज़वाब Police Procedural सामने होता I उपयोग की गयी तकनीक के आधार पर एक सधा हुआ लेखन तो है उक्त उपन्यास में मगर कोई भी किरदार उभरकर सामने नहीं आया I उपन्यास समाप्त होने के बाद एक अलग ही अनुभूति और संतुष्टि का अनुभव होता है मगर पात्र विस्मृत हो जाते हैं और कथा ही स्मृति में कहीं जगह बना पाती है I उपन्यास समाप्त होकर एक भावुक मोड़ पर छोड़ जाता है जहाँ हर चीज़ सही ही प्रतीत होती है और आरम्भ में लिखी आल्हा की पंक्तियों को जस्टिफाई करती हैं I बेहतर होता की चरित्रों और पात्रों को थोडा और खुलकर सामने आने का अवसर मिलता I मदन मिश्र प्रभावित करते हैं मगर स्मृति का अंग बनकर रह जाएँ उतना भी नहीं I इन दोनों तकनीकों का बेहतरीन प्रयोग जिस प्रकार Sue Coletta के उपन्यासों में देखने को मिलता है उसकी छोटी सी झलक ‘ सिंह मर्डर केस ‘ में भी नजर आती है हालांकि इस उपन्यास का कैनवस Sue Coletta के उपन्यासों जैसा विस्तृत नहीं है I लेकिन एक हिंदी लेखक के लेखन में उक्त की एक झलक भी दिख जाना अपने आप में सुखद है I

कुल जमा “ सिंह मर्डर केस “ के लेखक के रूप में हिंदी अपराध लेखन को एक नया लेखक मिला है जिसकी कलम में दम है और खुद को पढ़वा ले जाने की काबिलियत भी I उन्होंने उमीदें जगाई हैं I आशा है निकट भविष्य में कुछ और भी बेहतर पढ़ने को मिले I फिलहाल एक पढ़ने योग्य किताब I मेरी तरफ से 4 स्टार रेटिंग I

© Copyrights Reserved

You can get his book and reach him with one click below:

Amazon

Facebook

 

 

Singh murder caseSingh murder case by Ramakant Mishra
My rating: 4 of 5 stars

कोई भी काम खासतौर पर लेखन कर्म जब अपनी पूरी तैयारी और ईमानदार कोशिशों से परवान चढ़ता है तो उसका मकसद भी पूरी शिद्दत से कामयाब होता है I लिखना एक जटिल प्रक्रिया है और इस लिखने के दौरान एक गंभीर लेखक को न केवल अपने पात्रों की मनःस्थिति से जूझना पड़ता है बल्कि निरंतर खुद के भीतर उमड़ घुमड़ रहे अनगिनत विचारों की क्रमवार श्रृंखलाओं से भी दो चार होना पड़ता है I और इस होती निरंतर उथल पुथल का प्रभाव रचना पर पड़ना स्वाभाविक है I
Read Full Review at
https://sabakhanjrtakss.wordpress.com…

View all my reviews

Advertisements

New Releases

” ये जो कहते हैं उस पर इनकी आस्था नहीं है I ये ठगों से भी गए गुजरे हैं, उनसे कहीं घृणित हैं I ये इंसान नहीं पाप हैं I इंसान तो जो भी करता है आस्था से करता है I लेकिन जब इंसान बहुत सरल हो जाता है तो पाप भी इन्ही जैसे कपट वेषधारियों समान इंसान का रूप लेकर इंसानों में आ जाता है I

———इसी उपन्यास से——–

पुलिस के दबंग डी एस पी प्रशांत सिंह के पुत्र की उसी की गाड़ी से कुचलकर एन उसकी शादी के दिन, उसी के बंगले पर, दिन-दहाड़े हत्या कर दी जाती है. हत्यारे को किसी ने नहीं देखा. पुलिस के असफल हो जाने पर केस पहुँचता है सी बी आई के पास. कौन है हत्यारा? क्यों हुई ये हत्या? क्या हत्यारा पकड़ा जा सका? जानने के लिए पढ़ें- न्याय-अन्याय के बीच की धूमिल रेखा को रेखांकित करता हुआ एक अलग थ्रिलर

रमाकांत मिश्र का ‘सिंह मर्डर केस’ —-एक घात, प्रतिघात और मानव मन की कोमल संवेदनाओं में पगा हुआ तेज रफ़्तार थ्रिलर I

Book your copy here (Amazon Link ) singh

New Releases

उसका दावा था की उसके गुनाहों की फेहरिस्त काफी लम्बी थी, जो तलाफी के लायक तक ना थीं, उसका अकीदा था की वो महज़ इस लिए ही अब तक जीता रह सका है की इस दो जहान के मालिक ने जब भी उसके गुनाहों की तरफ नजर डाली तो सबसे पहले अपनी रहमत का जायजा लिया I उसने खता खायी थी, उसके यक़ीन की बुनियाद की ईंटें दरक चुकी थीं, फिर भी उसकी दुनिया में उसके लिए उसके जीने की वजुहातों के पीछे भी उसके बनाने वाले की साज़िश थी I वो जीता था, वो जीत सिंह था, वो बद्री था, वो वो सबकुछ था जो एक इन्सान के बच्चे को होना चाहिए था I लेकिन उसे हर उस चीज़ के लिए जद्दोजहद और मशक्कत के रास्ते पर चलना होता था जिसे पाने का  उसे पूरा हक था I

हिंदी जासूसी, रहस्य और अपराध कथाओं के एकलौते और पाए के अफ़सानानिगार सुरेन्द्र मोहन पाठक के ‘जीत सिंह सीरीज’ का अगला शाहकार ‘मुझसे बुरा कोई नहीं‘  नजदीकी बुकस्टोर पर हासिल करें I

आप online अपनी प्रति Amazon से भी book करा सकते हैं I MbKn